नई दिल्ली. मोबाइल फोन में मिलने वाला एयरप्लेन मोड फ्लाइट के अंदर काम आता है. फ्लाइट में बैठने के बाद फोन को एयरप्लेन मोड में डालने के लिए कहा जाता है. ऐसे में ज्यादातर लोग इस मोड का इस्तेमाल खासतौर पर फ्लाइट में ही करना जानते हैं. लेकिन, आपको बता दें कि एयरप्लेन मोड का इस्तेमाल और भी तरीकों से किया जा सकता है. ये एक मोड आपकी कई तरह से मदद करता है. ऐसे में आइए आपको बताते हैं कि कैसे एयरप्लेन मोड का इस्तेमाल आप कर सकते हैं.

बैटरी सेविंग
जब आप खराब सेल्युलर कवरेज या सिग्नल वाले क्षेत्र में होते हैं, तो आपका फ़ोन लगातार नेटवर्क खोजता रहता है, जिससे आपकी बैटरी जल्दी खत्म हो सकती है. एयरप्लेन मोड इस सर्च को रोक देता है, जिससे बैटरी लाइफ बच जाती है.

डिस्ट्रैक्शन को कम करना
एयरप्लेन मोड को इनेबल करने से आपको इनकमिंग कॉल, मैसेज या नोटिफिकेशन्स से बिना किसी रुकावट के काम पर ध्यान लगाने में मदद मिल सकती है.

ये भी पढ़ें: iPhone 16 में कैसा होगा कैमरा और किस तरह का रहेगा डिज़ाइन? सब आ गया सामने, कवर हुआ लीक

अस्पतालों में
संवेदनशील उपकरणों के साथ हस्तक्षेप को रोकने के लिए अस्पतालों और अन्य चिकित्सा सुविधाओं में जरूरी होता कि डिवाइसेज एयरप्लेन मोड में रखने रहें. क्योंकि, ये मोड एक आसान और तेज तरीका है.

नेटवर्क रिसेट करने के लिए
एयरप्लेन मोड किसी डिवाइस पर वाई-फाई, सेल्युलर, ब्लूटूथ और अन्य वायरलेस कम्युनिकेशन को डिसेबल कर देता है. एयरप्लेन मोड को ऑन और ऑफ करने से सिग्नल संबंधी समस्याओं को ठीक करने और रिसेप्शन में सुधार करने में मदद मिल सकती है.

आपातकालीन स्थितियों में
आपातकालीन स्थितियों में बैटरी की बहुत जरूरत होती है. ऐसे में एयरप्लेन मोड बैटरी लाइफ को बढ़ाने में मदद कर सकता है. इससे आपको इमरजेंसी वाली परिस्थितियों में कॉल्स और या किसी ऐप को इस्तेमाल करने के लिए बैटरी बच जाएगी.

Tags: Tech Knowledge, Tech news, Tech news hindi, Tech Tricks



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *