[ad_1]

नई दिल्ली. दुनिया की दिग्गज टेक कंपनियों में शुमार एप्पल के खिलाफ अमेरिका में मुकदमा किया गया है. उस पर स्मार्टफोन मार्केट पर एकाधिकार जमाने और प्रतिस्पर्धा को खत्म करने का आरोप लगा है. अमेरिकी न्याय विभाग ने अपने मुकदमे में कहा है कि एप्पल कंपनी आईफोन ऐप स्टोर पर अपने नियंत्रण का दुरुपयोग कर रही है.

बीबीसी की रिपोर्ट के अनुसार, आरोप में कहा गया है कि कंपनी जिन ऐप्स को अपने लिए खतरा समझती है, उनको गैरकानूनी तरीके से आगे बढ़ने से रोकती है और अपने प्रतिस्पर्धी प्रोडक्ट्स को कम आकर्षक दिखाती है. हालांकि कंपनी ने आरोपों को खारिज किया है और इस मुकदमे को लड़ने का मन बनाया है.

जानकारी के अनुसार, एप्पल के खिलाफ यह मामला न्यू जर्सी के फेडरल कोर्ट में दायर किया गया है. इस मुकदमे में कंपनी पर आरोप लगाया गया है कि व​ह अपने मुनाफे को बढ़ाने के लिए ‘कई मनमाने नियमों’ का इस्तेमाल किया है, अपने हार्डवेयर और साफ्टवेयर पर सीमित ऐक्सेस दिया है, जबकि कंपनी ग्राहकों और इनोवेशन के लिए कीमत बढ़ा रही है.

ये भी पढ़ें: Realme के इस फोन को हाथों-हाथ ले रहे हैं लोग, सेल में बना रिकॉर्ड, हर मिनट बिके 300 यूनिट्स

अटॉर्नी जनरल मेरिक गारलैंड ने एक प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि एप्पल ने स्मार्टफोन मार्केट में अपना एकाधिकार बना रखा है, लेकिन उसने यह केवल प्रतिस्पर्धा में अपनी योग्यता के दम पर आगे रहकर नहीं किया है, बल्कि फेडरल एंटी ट्रस्ट लॉ का उल्लंघन कर ​किया है. कंपनी ने नियम का उल्लंघन किया है, इसलिए ग्राहकों को अधिक कीमत नहीं देनी चाहिए.

उस मुकदमे में कंपनी पर कुछ क्षेत्रों में अपनी शक्तियों के दुरुपयोग का आरोप लगाया गया है. जैसे एप्पल ने अपने ऐप रिव्यू प्रॉसेस का उपयोग करके कथित सुपर ऐप्स और स्ट्रीमिंग ऐप्स के डवलपमेंट को प्रभावित किया क्योंकि कंपनी को चिंता थी कि ऐसे ऐप्स उसके लिए खतरा हैं, वे कम कीमत पर सु​विधाएं उपलब्ध कराएंगे, जिससे कस्टमर्स एप्पल से दूरी बना सकते हैं.

ये भी पढ़ें: 20 हजार से कम में लॉन्च हुआ ये नया 5G फोन, AMOLED डिस्प्ले के साथ है सुपर फास्ट चार्जिंग, कैमरा भी दमदार

एप्पल पर यह भी आरोप है कि वह अपने प्रतिस्पर्धी कंपनियों के स्मार्टवॉच को बड़ी ही मुश्किल से अपने स्मार्टफोन से जुड़ने देती है. वहीं अपने टैप टू पे टेक्नोलॉजी के एक्सेस को कई बैकों और अन्य वित्तीय संस्थानों के लिए बंद कर दिया. एप्पल पे ट्रांजैक्शन के जरिए कंपनी करोड़ों कमाती है.

एप्पल ने कहा है कि उनका मानना ​​है कि यह मुकदमा तथ्यों और कानून के हिसाब से गलत है. वह इसके खिलाफ अपना बचाव करेगी.

Tags: America, Apple, International news

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *